माली संस्थान जोधपुर की गतिविधियां वर्ष 2016


1. छात्रवृत्ति एवं प्रतिभा सम्मान समारोह कार्यक्रम:-

माली संस्थान जोधपुर द्वारा प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी वार्षिक उत्सव दशहरा वाले दिन मनाया जा रहा है, इस दिन समाज के कक्षा 10वीं के 379, 12वीं के 375 मेघावी छात्र-छात्राओं को छात्रवृत्ति, प्रशस्ति पत्र एवं मैडल प्रदान कर सम्मानित किया जायेगा एवं स्नातक के 334 एवं स्नातकोतर के 94 मेघावी छात्र-छात्राओं को प्रशस्ति पत्र एवं मैडल प्रदान कर सम्मानित किया जायेगा। इसी प्रकार समाज के अन्य 50 उच्च शिक्षित विद्यार्थियों को प्रशस्ति पत्र एवं मैडल प्रदान कर सम्मानित किया जायेगा तथा समाज में उल्लेखनीय क्षेत्र में उपलब्धि प्राप्त 30 जनों को विशेष सम्मानित किया जायेगा एवं समाज में उल्लेखनीय क्षेत्र में उपलब्धि प्राप्त 20 जनों को विशिष्ठ सम्मानित किया जायेगा।

इस बार चयनित छात्र-छात्राओं को चैक द्वारा छात्रवृत्ति प्रदान की जायेगी, ताकि माली समाज के प्रत्येक छात्र का बैंक में खाता हो तथा 12 रूपये इंश्योरेंस के भी प्रदान किये गये है।

2. एम्स अस्पताल के सामने माली संस्थान की धर्मशाला:-

आरोग्य भवन, एम्स अस्पताल, जोधपुर के सामने मरीजों व उनके परिजनों के ठहरने की सुविधा के लिए धर्मशाला निर्माण हेतु भूखण्ड खरीद किया गया। जिसका पंजीयन करवा दिया गया है एवं पंजीयन सहित लगभग रूपये 1,50,00,000 अक्षरे एक करोड़ पचास लाख रूपये का खर्चा हुआ है। इसके लिए लगभग 90 दानदाताओं को भूमि दानदाता के रूप में रूपये एक लाख प्रति दानदाता ने प्रदान किये, जिसमें श्री सुनील जी परिहार तथा श्री इन्द्रजीतसिंह जी गहलोत का विशेष सहयोग रहा। उपरोक्त भूखण्ड पर जोधपुर विकास प्राधिकरण से निर्माण अनुमति प्राप्त करने हेतु प्रक्रिया प्रारम्भ कर दी है, निर्माण अनुमति प्राप्त होते ही निर्माण कार्य प्रारम्भ कर दिया जावेगा। भामाशाहों के उत्साह को देखते हुए निर्माण कार्य पूर्ण हो जायेगा।

3. नेनूराम अचल स्मृति भवन (गीतांजली स्कूल):-

माली संस्थान जोधपुर की सम्पत्ति नेनूराम अचल स्मृति भवन के परिसर में संचालित गीतांजली स्कूल को खाली करवाने के सम्बन्ध में निचली अदालत द्वारा भवन खाली करने का निर्णय वर्ष 2003 में किया गया, दिनांक 14.10.2015 को माननीय राजस्थान उच्च न्यायालय, जोधपुर द्वारा अपील को खारिज करके माली संस्थान, जोधपुर के पक्ष में निर्णय पारित किया, दिनांक 15.12.2015 को माननीय उच्चतम न्यायालय ने भी माली संस्थान, जोधपुर के पक्ष में दिनांक 30.06.2017 तक गीतांजली स्कूल को उक्त परिसर से खाली करने के उच्च न्यायालय के आदेश को बरकरार रखा। माली संस्थान जोधपुर के इतिहास में यह एक स्वर्ण अक्षरों में लिखा जाने वाला निर्णय है क्योंकि वर्ष 1997 से यह मामला न्यायालय में विचाराधीन था। आगामी वर्ष 30 जून 2017 तक यह परिसर खाली करवा दिया जायेगा और भविष्य में माली संस्थान द्वारा समाज हित के कार्यों में उपरोक्त परिसर का उपयोग किया जायेगा।

4. श्रीमती सोनीदेवी देवीलाल गहलोत गुरुकुल आश्रम:-

रामबाग में गुरूकुल छात्रावास देश में माली समाज का सबसे बड़ा छात्रावास है जिसमें 400 से अधिक विद्यार्थी रहते है जो कि स्कूल, कॉलेज एवं बीपीपीएस में अध्ययनरत है। यह छात्रावास पूर्ण सुविधायुक्त पांच मंजिला भवन व लगभग 60 हजार वर्गफीट क्षेत्रफल में फैला हुआ है।

रामबाग परिसर में श्रीमती सोनीदेवी देवीलाल गहलोत गुरूकुल छात्रावास में राजस्थान एवं राज्य के बाहर समाज के विद्यार्थी, आधुनिक सुविधा युक्त लॉजिंग एवं बॉर्डिंग का लाभ प्राप्त कर रहे है जिसमें स्वचालित रोटी बनाने की मशीन भी स्थापित कर दी गई है। विद्यार्थियों को घर परिवार जैसा सामुहिक प्रयास के द्वारा सामाजिक संगठनों को मजबूत करने का उल्लेखनीय प्रयास किया जा रहा है।

5. गैस आधारित शव दाहगृह चैम्बर:-

माली संस्थान के रामबाग परिसर स्थित स्वर्गाश्रम में गैस आधारित शव दाहगृह चैम्बर की स्थापना की गई। इससे पर्यावरण संरक्षण को बढावा मिला साथ ही शव के अन्तिम संस्कार में होने वाले व्यय में कमी आयी। यह शव दाहगृह चैम्बर माली समाज का प्रथम एवं जोधपुर जिले में द्वितीय एवं राजस्थान का चतुर्थ है। अब तक इस शव दाहगृह चैम्बर में सभी समाजों के कुल 28 दाह संस्कार हो चुके है। यह शह दाहगृह सभी समाजों के उपयोगार्थ सदैव खुला है।

6.रामबाग परिसर:-

माली संस्थान द्वारा तीसरे अथवा 12वें के उठावणा हेतू सामूहिक बैठक (औरतो/पुरूषों) की विशेष सुविधा प्रदान की जाती है, हम सभी इसी परिसर के प्रांगण में बैठे हैं। इसके साथ ही अन्य रचनात्मक व धार्मिक कार्यों हेतु इस परिसर का उपयोग हो रहा है और यह परिसर सभी समाजों उठावणा प्रयोजनार्थ उपलब्ध है।

इस परिसर में भारत सेवा संस्थान एवं महावीर विकलांग समिति के सहयोग से दो शिविरों के माध्यम से लगभग 2000 निःशक्त लाभार्थी रहे इस परिसर में सर्व समाज का मेडिकल कैम्प आयोजित किया गया।

7. बालिका छात्रावास कीर्ति नगर:-

संस्थान द्वारा संचालित कीर्ति नगर, मगरा पूंजला, जोधपुर स्थित बालिका छात्रावास में राजस्थान एवं राजस्थान के बाहर अन्य राज्यों की लगभग 150 बालिकाएं लाभान्वित हो रही है तथा वर्ष में लगभग 400 बालिकाओं के द्वारा इसका उपयोग किया जा रहा है। ये छात्रावास पूरे राजस्थान में माली समाज का एकमात्र बालिका छात्रावास है जो CCTV कैमरों की सुरक्षा प्रणाली से युक्त है जो माली संस्थान द्वारा संचालित किया जा रहा है। जिसमें स्वचालित रोटी बनाने की मशीन भी स्थापित कर दी गई है तथा जेनरेटर भी लगवा दिया गया है, ताकि बिजली नहीं होने की स्थिति में परेशानी नहीं उठानी पड़े। बालिकाओं की सुविधाओं को देखते हुए 10 नवीन स्नानाघार व शौचालयों का निर्माण किया जा चुका है।

8. बहु प्रतियोगी प्रशिक्षण संस्थान:-

रामबाग परिसर में संचालित बहु प्रतियोगी प्रशिक्षण संस्थान में लगभग 750 विद्यार्थी अध्ययनरत है जिनको बहु प्रतियोगी प्रशिक्षण संस्थान द्वारा निःशुल्क शिक्षा एवं विभिन्न सरकारी पदों की भर्ती से पूर्व शिक्षण एवं प्रशिक्षण प्रदान किया जा रहा है। यह परिसर नवीनतम साधनों से परिपूर्ण, ब्ब्ज्ट कैमरों की सुरक्षा प्रणाली से युक्त है एवं ऑनलाइन पेपर सेट हेतु इन्टरनेट प्रणाली से युक्त 90 कम्प्यूटर मय लेब का संचालन किया जा रहा है।

9. RAS, IAS प्रशिक्षण :-

वर्ष 2014 से प्रशानिक सेवाओं में ( RAS, IAS ) भर्ती पूर्व शिक्षण, प्रशिक्षण एवं व्यक्तित्व विकास सम्बन्धी कार्यक्रमों का संचालन प्रारम्भ कर 35 अभ्यार्थियों को प्रशिक्षण प्रदान किया गया है।

10.प्रमाण पत्र शिविर:-

माली संस्थान, जोधपुर एवं बहु प्रतियोगी प्रशिक्षण संस्थान के संयुक्त तत्वावधान में श्रीमती सोनीदेवी देवीलाल गहलोत गुरुकुल छात्रावास, रामबाग परिसर, महामन्दिर, जोधपुर मंे समाज बन्धुओं को सहायतार्थ के लिए शिविर का आयोजन कर 400 से अधिक मूल निवास प्रमाण पत्र, अन्य पिछड़ा वर्ग प्रमाण पत्र तथा शैक्षणिक गतिविधियों हेतु आय प्रमाण पत्र हेतु लागत मूल्य पर दस्तावेज तैयार किये। शिविर में समाज के राजपत्रित अधिकारी, एडवोकेटस्, नोटेरी पब्लिक, फोटो कोपियर्स, अर्जेन्ट फोटो एवं उक्त कार्यों से सम्बन्धित समाज के सलाहकार तथा स्वयं सेवकों द्वारा अपनी सेवाऐं प्रदान की गई।

11. पेंशनः-

पेंशन बैंक में खाता खुलवाकर चैक द्वारा समाज की असहाय, विधवा, परित्यक्त महिलाओं एवं वृद्धजनों हेतु प्रतिमाह रूपये 500/- पेंशन प्रदान प्रदान की जा रही है।

12. चिकित्सा सहायता:-

समाज के असहाय बीमार जनों हेतु चिकित्सा प्रयोजनार्थ आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है।

13. प्राकृतिक चिकित्सा शिविर:-

माली संस्थान, जोधपुर एवं बहुप्रतियोगी प्रषिक्षण संस्थान के संयुक्त तत्वावधान में विशाल प्राकृतिक चिकित्सा (अपना इलाज अपने हाथ) शिविर का आयोजन रविवार दिनांक 21.08.2016 को प्रातः 09:30 से दोपहर 12:30 तक रामबाग परिसर, कागा रोड़, महामन्दिर, जोधपुर में रखा गया। शिविर में डॉ. पीयूष सक्सेना (पीएच.डी., नेचुरोपैथी, यूएसए) मुम्बई द्वारा हृदयरोग, पित्ताषय एवं गुर्दे की पत्थरी, मोटापा, ब्लड शुगर, ब्लडप्रेशर, डिप्रेशन, अनिंद्रा, थॉयरॉइड, सिरदर्द, गायनिक एवं एलर्जी जैसे तमाम तरह की बीमारियों का प्राकृतिक चिकित्सा (क्लीजिंग थेरेपी) द्वारा उपचार के बारे में जानकारी निःशुल्क प्रदान की गई।

14. विकलांगजन सहायता शिविर:-

भारत सेवा संस्थान, जोधपुर एवं महावीर विकलांग समिति, जयपुर के संयुक्त तत्वावधान में चार दिवसीय विकलांग शिविर का 14, 15, 16 व 17 मार्च 2016 को आयोजन रामबाग परिसर न्यू पवेलियन, जोधपुर में आयोजित किया गया, जिसमें कृत्रिम अंग, ट्राई साईकिले निःशुल्क उपलब्ध कराई गई। स्वयंसेवकों द्वारा अपनी सेवाऐं देकर समाज में विकलांगों को मदद प्रदान की गई।

भारत सेवा संस्थान, जोधपुर एवं महावीर विकलांग समिति, जयपुर के संयुक्त तत्वावधान में तीन दिवसीय विकलांग शिविर का 29, 30 व 31 जुलाई 2016 को आयोजन रामबाग परिसर न्यू पवेलियन, जोधपुर में आयोजित किया गया, जिसमें कृत्रिम अंग, ट्राई साईकिले निःशुल्क उपलब्ध कराई गई। स्वयंसेवकों द्वारा अपनी सेवाऐं देकर समाज में विकलांगों को मदद प्रदान की गई।

पूर्व मुख्यमंत्री श्री अशोक जी गहलोत व भारत सेवा संस्थान के प्रभारी श्री नरपतसिंह कच्छवाहा के पूर्ण सहयोग से ये शिविर सफलतापूर्वक सम्पन्न हुए।

15. श्रीमती कमलादेवी गहलोत कम्प्यूटर केन्द्र, जोधपुर:-

दिनांक 29.08.1994 को श्री किशनसिंह जी गहलोत (केन्या वाले) द्वारा अपनी माताजी श्रीमती कमलादेवी गहलोत के नाम पर कम्प्यूटर केन्द्र स्थापित किया। इस केन्द्र से 1994 से अब तक कुल 3735 विद्यार्थियों ने प्रशिक्षण प्राप्त किया। निम्नलिखित कोर्स संचालित किये जा रहे हैं:-

i .फण्डामेन्टल ऑफ कम्प्यूटर्स

ii. डी.टी.पी.

iii. प्रोग्रामिंग लैंगवैज।

iv. वेब साईट डेवलपमेन्ट एवं डिजाईनिंग

v. ओ लेवल एवं ए लेवल कोर्स का प्रशिक्षण एवं मार्गदर्शन

vi. टैली एकाउण्टिंग

सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकी का सफल क्रियान्वयन

1. माली संस्थान जोधपुर की वेबसाईट www.sainimalisamaj.com संचालित की जा रही हैं, जिससे समाज सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में अधिक से अधिक लाभान्वित हो रहा है।

2. वेबसाईट पर एक लाख से भी अधिक समाज महानुभावों को जोड़ा गया है, जुड़े हुए समाज बन्धु वेबसाईट पर उपलब्ध सूचना का उपयोग कर लाभान्वित हो रहे है।

3. माली संस्थान के सभी महत्वपूर्ण पत्रावलियों व रिकॉर्ड को कमला देवी गहलोत कम्प्यूटर केन्द्र की तकनीकी टीम द्वारा विकसित सॉफ्टवेयर से स्केन कर कार्य पूर्ण कर दिया। इससे किसी भी फाईल की जानकारी कम्प्यूटर पर तुरन्त एक क्लिक पर उपलब्ध है। महत्वपूर्ण रिकॉर्ड कम्प्यूटर पर सुरक्षित कर संचित कर लिया गया है।

4. वेबसाईट पर सामुहिक विवाह के सम्बन्ध में आवेदन पत्र एवं अन्य जानकारी उपलब्ध करवाई गई।

5. माली संस्थान जोधपुर द्वारा छात्रवृति के ऑनलाईन आवेदन इस वेबसाईट के माध्यम से 1669 प्राप्त किये गये। 1300 से अधिक चयनित प्रतिभावान छात्र-छात्राओं को माली समाज द्वारा इस वर्ष छात्रवृति, प्रशंसा पत्र एवं मैडल प्रदान किये जायेंगे, जिसकी सूची इस वेबसाईट पर उपलब्ध करवाई गई है तथा सभी को E-mail, SMS एवं प्रथम बार ऑनलाईन छात्रवृत्ति पत्र द्वारा सूचित किया गया। इस बार छात्रवृत्ति चैक कम्प्यूटर से प्रिन्ट करके दिये गये। जिससे कार्य में पारदर्शिता आ गई है।

6. माली संस्थान जोधपुर द्वारा इस वेबसाईट के माध्यम से भाटी मेमोरियल हॉल एवं धर्मशाला बुकिंग का ऑन लाईन सॉफ्टवेयर बना दिया गया जिससे कार्य में पारदर्शिता आ गई है। किसी भी स्थान पर ऑन लाईन बुकिंग की जानकारी ली जा सकती है।

7. माली संस्थान के आजीवन सदस्यों को संस्थान का पहचान पत्र का सॉफ्टवेयर तैयार कर दिया गया है। लगभग 3500 सदस्यों को कार्ड वितरण कर दिये गये हैं।

8. माली संस्थान जोधपुर के आजीवन सदस्य एवं सामान्य सदस्य के फार्म भी इस वेबसाईट के माध्यम से प्राप्त किये जा रहे है।

9. माली संस्थान जोधपुर के आदर्श सामुहिक विवाह समिति के सदस्यों की जानकारी एवं युवक-युवती पंजीयन आवेदन पत्र भी इस वेबसाईट के माध्यम से प्राप्त किये जा रहे है। विवाह योग्य युवक-युवतियों की जानकारी भी अतिशीध्र वेबसाईट पर समाजबन्धुओं के लिए उपलब्ध करवा दी जायेगी।

10. छात्रावास में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थियों के शुल्क के लेखा-जोखा की मॉनिटरींग का सॉफ्टवेयर तैयार किया गया, इस सॉफ्टवेयर का परीक्षण किया जा रहा है, परीक्षण पूर्ण होने पर इस सॉफ्टवेयर का उपयोग किया जायेगा जिससे लेखा जोखा का कार्य आसान हो जायेगा।

11. श्रीमती कमलादेवी गहलोत कम्प्यूटर सेन्टर, जोधपुर द्वारा समाजहित में सभी सूचना प्रोद्योगिकी सम्बन्धी कार्य निःशुल्क किये जा रहे हैं।